ट्रेंडिंग न्यूज़

बागेश्वर धाम के धीरेंद्र शास्त्री की सच की कसोटी

बागेश्वर धाम सरकार के धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री महाराज को सच के कसोटी पर है पर अब भारत सहित पूरी दुनाया में उनके विवाद की चर्चा चल रही है, ऐसे में अब धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री महाराज को अपने आप को साबित भी करना होगा और साथ साथ में इस विश्व के विज्ञान को भी गलत साबित करना है जैसे जैसे ये विवाद विश्व में आगे बढ़ता जाएगा धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की मुश्किले और बढ़ती जायेगी।

बागेश्वर धाम

Contents hide

 क्या है.. बागेश्वर धाम सरकार के पीठाधीश्वर पूज्य धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री जी महाराज  का विवाद

बागेश्वर धाम महाराज धीरेंद्र शास्त्री महाराष्ट के नागपुर में दरबार का आयोजन किया था, पर जैसे ये खबर नागपुर में अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति को मिली तो समिति के उपाध्यक्ष श्याम मानव ने पुलिस के पास शिकायत दर्ज की महाराज समाज में अंधविश्वास फैला रहे है, पर इस मामले के तहत पुलिस ने कोई FIR शिकायत दर्ज नहीं की पर उपाध्यक्ष श्याम मानव ने धीरेंद्र शास्त्री महाराज चुनौती दी की अगर में बोलता हु वैसे अगर महाराज करते तो… 30 लाख रुपये का ईनाम दीया जाएगा पर पुलिस का विवाद के चलते महाराज रायपुर पर आ गए पर अचानक से महाराज घर लोटने से श्याम मानव ने महाराज भाग गए ऐसा कहा पर असल में महाराज पुलिस विवाद के कारण ये फैसला लिया था फिर धीरेंद्र शास्त्री ने श्याम मानव को चुनौती को स्वीकार करते हुवे,श्याम मानव को रायपुर आने को कहा पर श्याम मानव ने ये चुनौती को अस्वीकार किया।

विवाद को बढ़ाने में मीडिया का हाथ

महाराज जब नागपुर से अपने घर रायपुर आए तो वही से मीडिया ने दोनों पक्ष के मुलाखत से मुदा और बढ़ता गया और तब धीरेंद्र कृष्ण महाराज भारत के सभी बड़े बड़े न्यूज़ चैनल को चुनौती दी कि वह मेरे दिव्य दरबार में आकर मेरी हर तरफ से परीक्षा ले सकते हैं लेकिन चुनौतियों को कुछ ही नेशनल चैनल वहा पर आए अगले ही दिन उनके दिव्य दरबार में वह चैनल वाले पहुंच गए उन्हें अगर हम उसमें लोकप्रिय भारत चैनल की  बात करें तो सबसे ज्यादा एबीपी न्यूज़ ने इस घटना का  कवरेज को दिखाया और सच क्या है वह भी सामने लाया।

Secrets Tips

एबीपी न्यूज़ रिपोर्टर की बोलती बंद

तो  उस दिन जैसे ही न्यूज़ चैनल वाले उस दिव्य दरबार में पहुंचे तो महाराज धीरेंद्र कृष्णा ने सबको आव्हान देते हुवे… यह कहां कि जितने भी यहां पर न्यूज़ चैनल वाले आए हैं जिनका भी चाचा का नाम भृगुनाथ तिवारी है वह आकर मेरे इस दिव्य दरबार के मेरे सामने आकर बैठ जाए तो महाराज ने जो चाचा का नाम लिया था वह न्यूज़ एबीपी न्यूज़ के ही एक पत्रकार था वह आकर उनके ही चाचा जो नाम लिया वह जो कृष्ण महाराज ने नाम लिया था वो बिलकुल सही था
जब वह एबीपी न्यूज़ का पत्रकार बाबा के सामने आकर बैठ गया तो फिर कृष्ण महाराज ने फिर उनके बारे में जानकारी देते हुए कहा कि उनके भाई रगेन्द्र तिवारी का अभी जो नया मकान बना है उसकी भी बात की वह भी सच निकली उसके बाद उसी चाचा के भाभी का भी नाम बताया वह भी सही आया उसके बाद कुछ पत्रकार की गुप्त बातें एक कागज में लिखी वह भी उस पत्रकार को दिखाई तो वह भी सच निकली और जाते-जाते उस पत्रकार ने बाबा की जय  घोषणा की कि वह बाबा की दिव्य शक्ति को मानने लगे हैं बाबा के दिव्य शक्ति को भी मानते हैं,इस घटना से हमें यह पता चलता है कि महाराज ने दी चुनौती न्यूज़ वालों को दी थी उसको सही ठहराया।

भारत और अन्य विश्व के देश में भारत के बाबा के बारे में क्या सोचते हैं

बागेश्वर धाम बालाजी का यह विवाद पूरे भारत सहित अन्य विश्वा देशों में भी अब न्यूज़  फेल गया है  तो इसके बारे में सोशल साइट से मिली जानकारियां  यह कहते हैं कि बाबा जो भी बात अपने दिव्य दरबार में करते हैं वह अपनी ही एक टीम से फेसबुक या अन्य सोशल साइट से पहले ही जानकारी  निकाल देते है  फिर उनकी वह जानकारी को इकट्ठा कर लेते हैं और जानकारी लेने के बाद वही आदमी को बुलाते हैं उनकी जानकारी वह कह देते कि इनका यह नाम है उनका यह नाम है ऐसे आजकल मीडिया द्वारा जो उच्च शिक्षित लोग हैं वह बाबा के बारे में सोचते हैं
चलो एक बार हम मान भी लेते हैं कि बाबा फेसबुक के द्वारा या अन्य सोशल साइट्स के द्वारे किसी आदमी की पहले इंफॉर्मेशन रखते हैं लेकिन आप मान लीजिए 1 लाख लोगों में से अगर भी कि 100 लोगों की भी अगर इतनी डिटेल्स में इंक्वायरी रखना हो तो भी एक इंसान के लिए आसान काम नहीं है इसलिए हमे ये मानना पड़ेगा की बाबा एक बहुत ही बुद्धिमान इंसान हैं।
READ MORE…vikas ecotech की सऊदी अरब विश्वविद्यालय के साथ साझेदारी

eki energy का नया ऑफिस अब मुंबई

भारत में अब दो पक्ष है बाबा के समर्थक और बाबा के असमर्थक

बागेश्वर धाम का यह विवाद पूरे भारतवर्ष सहित अन्य देशों में भी फैल गए ऐसे में बाबा को मानने वाले और ना मानने वाले ऐसे दो पक्ष बन चुके हैं

बागेश्वर धाम सरकार के समर्थक की राय

तो पहले तो जान लेते हैं कि बाबा को मानने वाला पक्ष उनके बारे में क्या कहता है तो भारत में पहले से ही शुरु से हजार साल से बाबा और दिव्य पुरुषों का इस धरती पर जन्म हुआ है और उनके पास दिव्य शक्तियां होती है ऐसे भारत के कई सारे ऐसे लोग हैं जिन्हें इसका अनुभव भी किया है और आज भी उनको वैसे तो देखा जाए तो भारत के जो दिव्य पुरुष होते हैं उनके पास यह शक्तियां होती है उनके बारे में लाखों ऐसी खबर है लेकिन आप को समझने के लिए दो घटना बताना चाहता हूं जिससे आप को समझने में विश्वास जरूर बढ़ेगा की दिव्य शक्तियां व दिव्य पुरुष भारत में होते हैं
फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग जब अपने शुरू के दिन में फेसबुक को लेकर बहुत परेशान थे तब वह  उत्तराखंड के नैनीताल के पास कैंची धाम में बाबा नीम करौली  पास आए और अपनी समस्या बताई तो बाबा ने कुछ ऐसे मुद्दे उनके सामने रखे फेसबुक को लेकर फिर जब फेसबुक पर सीईओ ने ये अमल किया तो फेसबुक पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गया।
अब दूसरी घटना का जिक्र करना चाहूंगा कि iphone फोन आजकल पूरे विश्व में प्रसिद्ध है उनकी कीमत और क्वॉलिटी की सब प्रशंसा करते हैं ऐसे में एप्पल को बनाने वाले स्टीव जॉब्स उत्तराखंड के नैनीताल के पास कैंची धाम में बाबा नीम करौली आए थे और अपनी समस्या बताई थी समस्या को लेकर और कंपनी के logo  है उसकी पहचान भी बाबा नीम करौली ने बताया थी तो यह दो घटना से आपको पता लग सकता है कि हमारी जो दुनिया में दिव्य कोई शक्तियां हैं जिनका अंदाजा हम नहीं लगा सकते
जीवन में अगर आपको बेहतर दर्जा अगर प्राप्त करना ही विश्व में सबसे बड़ा काम करना है तो आपको दिव्य शक्ति आपको मदद कर सकती है आप क्रिकेट के महान फलंदाज सचिन तेंदुलकर की बात करें वह अपने दौरे के समय में उनको विश्राम मिलता था तो वह मंदिर में जाकर पार प्रभु के पास प्रार्थना जरूर करते थे आपने कई बार सचिन तेंदुलकर को मंदिर में जाता हुआ देखा होगा जब भी उनको समय मिलता था वह ईश्वर चरणों में जरूर जाते थे।

बागेश्वर धाम सरकार के असमर्थक राय

अब जानकारी लेते हैं कि बाबा को ना मानने वाले लोग बाबा के बारे में क्या कहते है
बाबा की एक बड़ी टीम है जो सोशल साइट पर काम करती है मतलब जो लोग सोशल साइट पर एक्टिव है फेसबुक इंस्टाग्राम और कहीं भी ऐसे जहां पर बाबा की टीम है वह पूरी तरह से इंफॉर्मेशन निकालती है और बाबा के पास रख देती है उसके बाद मिलने के बाद बाबा उसी में से आदमी को चुनते हैं और बाबा उनके यह बारे में यह बात बता देते हैं
बाबा के बारे में लोग यह भी कहते हैं कि बाबा माइंड रीडिंग करते हैं मतलब माइंड रीडिंग एक ट्रिक है जिससे आप भी किसी की मन की बात जान सकते हैं तो एक ट्रिक को बाबा सीख चुके हैं वहीं माइंड रीडिंग करते हैं ऐसे भारत में और विश्व में बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो माइंड रीडिंग करते हैं
हमने दोनों पक्ष की बात सुनी बाबा को मानने वाले और बाबा को ना मानने वाले लेकिन समझने वाले को इशारा काफी होता है उस अनुमान से हम लगाएं तो बाबा आज कल अगर हम उनके पास दिव्य शक्ति या ना भी हो लेकिन वह एक विश्व के बुद्धिमान इंसान हम उसे कह सकते हैं क्योंकि 2 लाख लोगों की में से किसी 100 लोगों क्या डाटा हर रोज सही कहना यह भी एक बुद्धिमान की निशानी है

धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री जी महाराज का परिचय

धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री जी महाराज का जन्म 4 जुलाई 1996 को मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले के गढ़ा गाव में हुवा है इनका पूरा नाम श्री धीरेंद्र कृष्ण राम गर्ग है इनके पिता का नाम श्री राम करपाल गर्ग है और माता का नाम श्रीमती सरोज गर्ग,दादा जी का नाम श्री भगवान दास गर्ग है साथ मे दो भाई और एक बहन भी है ये धर्म से हिन्दू-पंडित है इनका बचपन अधिक गरीबी से गुजारा है पर धीरेन्द्र कृष्ण महाराज ने अपने परिवार का पालनपोषण का काम आयु 9 साल से ही शुरू कर चुके थे वो राम कथा का आयोजन रख कर वो अपने परिवार को चलते थे फिर 9 साल से ही अपने दादाजी के सह्यता से हनुमान महाराज की पुजा किया करते थे फिर वो समय में दादा जी दिव्य दरबार का आयोजन किया करते थे लेकिन अब धीरेन्द्र कृष्ण महाराज ही दिव्य दरबार को आयोजन करने लगे और तब अब तक बालाजी धाम इतना मशहूर बन चुका है की यहा पर हर मंगलवार और शनिवार को लाखो भक्त इस दरबार में शामिल होते है

क्या है बागेश्वर धाम बाबा दिव्य दरबार

Bageshwar Dham Sarkar Chhatarpur कैसे जा सकते हैं ? मध्य प्रदेश में छतरपुर क्षेत्र है जहां पर शुरू में यह बाबा दिव्य दरबार का आयोजन कराते थे पर अब मध्यप्रदेश के अलग अलग जगह पर ये दिव्य दरबार का आयोजन किया जाता है  तो लोग सुबह से अपनी जो जीवन की समस्या है वह लेकर वहां पर आते हैं तो बाबा उन प्रश्नों का समाधान उसकी दिव्य दरबार में देते हैं अगर उनके कुछ बीमारी हो या भूत वर्तमान में कोई सवाल हो तो बाबा पहले ही उनके सवालों का जवाब और समस्या का निदान पहले से ही उत्तर एक पर्चा में लिखकर दे देते हैं

बागेश्वर धाम कहां है

भारत के राज्य मध्यप्रदेश के जिला छतरपुर में गंज पोस्ट में ग्राम – गढ़ा में करीब 300 साल पहले सन्यासी बाबा ने दिव्य दरबार की शुरुवात की थी जो अब बागेश्वर धाम से मशहूर है।

बागेश्वर धाम में टोकन कैसे प्राप्त करें

बागेश्वर धाम में टोकन हर एक अंतराल में भक्त को दिये जाते है, बागेश्वर धाम आपको पहले कमेटी से संपर्क करना होगा फिर आपको सूचित किया जाएगा की बागेश्वर धाम के परिसर में एक पेटी रखी जाती है उसमे आपको आपकी पूरी जानकारी देनी पड़ती है जिसमे आपको आपका नाम ,पिताजी का नाम ,मोबाइल नंबर ,आपके गाव का नाम ,आपके के जिला का नाम ,आपके राज्य का नाम इतनी जानकारी भरने का बाद पेटी में वो जानकारी डाल दीजिये फिर कमेटी वाले आपको मोबाइल नंबर पर कॉल करके एक टोकन दिया जाएगा आपको बता देंगे की आपको दिव्य दरबार में कब हजेरी लगाना है ।

बागेश्वर धाम में घर बैठे अर्जी कैसे लगाएं

बागेश्वर धाम में घर बैठे अर्जी लगा सकते है अपने घर में जो पुजा का स्थान है वही आपके के समस्या के अनुसार अगर आपकी समस्या आसान है तो लाल कपड़े में नारियल की बांधे ,आपकी की समस्या शादी की है तो पीले कपड़े में नारियल बांधे और अगर आपकी समस्या भूत प्रेत ,काला जादू की समस्या है तो काले कपड़े में नारियल को बांधे और बागेश्वर धाम सरकार का ॐ बागेश्वराय नमः याद करके रख दे

बागेश्वर धाम का रहस्य

बागेश्वर धाम ये एक पवित्र क्षेत्र है जो राज्य मध्यप्रदेश के जिला छतरपुर के ग्राम गढ़ा में स्थित है यहा पर स्वंयभू हनुमान जी का मंदिर है जो जिसे बागेश्वर धाम कहा जाता है यहा पर देश और विदेश से भक्त अपनी मनोकामना लेकर यहा पर आ जाते है और उनकी समस्या का निवारण भी महाराज धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री करते है इस पहले उनके दादाजी किया करते थे पर 300 साल से सन्यासी बाबा जो धीरेंद्र कृष्ण  शास्त्री है उनके पूर्वज ये काम करते आ रहे है।

बागेश्वर धाम की महिमा

बागेश्वर धाम की महिमा ये है की यहा पर 300 साल से दिव्य दरबार का आयोजन किया जाता है जिसमे आने वाले भक्तो के समस्या का समाधान किया जाता है यहा पर श्री हनुमान महाराज की दिव्य मंदिर है जो बालाजी बागेश्वर धाम से मशहूर है।

FAQ

सवाल-bageshwar dham address
जवाब-ग्राम – गढ़ा, पोस्ट – गंज, जिला – छतरपुरमध्य प्रदेश, पिन – 471105
सवाल-बागेश्वर धाम सरकार कहाँ और किस राज्य में स्थित है ?
जवाब-मध्यप्रदेश
सवाल-बागेश्वर धाम क्यों प्रसिद्ध है?
जवाब- यहा पर श्री हनुमान महाराज की दिव्य मंदिर है जो बालाजी बागेश्वर धाम से मशहूर है।
सवाल-बागेश्वर धाम कौन से जिले में पड़ता है?
जवाब-छतरपुर
सवाल-दिव्य दरबार बागेश्वर धाम कहाँ पर है?
जवाब-भारत के राज्य मध्यप्रदेश के जिला छतरपुर में गंज पोस्ट में ग्राम – गढ़ा में
सवाल-बागेश्वर धाम का मोबाइल नंबर क्या है
जवाब-8982862921 /  8120592371
सवाल-bageshwar dham kahan per ha [बागेश्वर धाम दिखाइए]
जवाब-भारत के राज्य मध्यप्रदेश के जिला छतरपुर में गंज पोस्ट में ग्राम – गढ़ा में
सवाल-bageshwar dham contact number
जवाब-8982862921 /  8120592371
सवाल-bageshwar dham sarkar contact numbe
जवाब-8982862921 /  8120592371
सवाल-बागेश्वर धाम का पता

जवाब-ग्राम – गढ़ा, पोस्ट – गंज, जिला – छतरपुरमध्य प्रदेश, पिन – 47110

सवाल-बागेश्वर धाम कांटेक्ट नंबर
जवाब-8982862921 /  8120592371
निष्कर्ष- विश्व में कोई तो शक्ति है जो सच्चे जीव को कभी हारने नहीं देती
डिस्क्लइमर [ disclaimer ] careermotto.in पर आनवाले न्यूज़ कंपनी वेब साइट,उच्च कोटी न्यूज़ साइट,विशेष जानकार से ली है इसमे कोई careermotto.in की व्यक्तिगत राय बिलकुल नहीं है

careermotto

A self-motivated and hard-working individual, I am currently engaged in the field of digital marketing to pursue my passion of writing and strategising. I have been awarded an MSc in Marketing and Strategy with Distinction by the University of Warwick with a special focus in Mobile Marketing. On the other hand, I have earned my undergraduate degrees in Liberal Education and Business Administration from FLAME University with a specialisation in Marketing and Psychology.

Related Articles

Back to top button