Education

बीज बोने/खेती करने/हल चलाने का मुहूर्त कब है 2023 | बीज उत्पत्ति का शुभ मुहूर्त | kheti karne ka Shubh muhurt kab hai

आध्यात्मिक दृष्टि से, हल चलाने का मुहूर्त एक अद्वितीय समय है जो किसानों को धरती माता से जोड़कर उनके कृषि यात्रा को शुभ बनाए रखने का प्रयास करता है। हिंदू कैलेंडर और ज्योतिष की धाराएँ इस मुहूर्त का निर्धारण करने में सहायक होती हैं, जो न केवल कृषि को बल्कि समृद्धि और सामाजिक समरसता को भी बढ़ावा देता है।

ध्यान दें: हल चलाने का शुभ मुहूर्त के लिए ज्योतिषीय सलाह लेना सुरक्षित होता है और व्यक्तिगत आवश्यकताओं के आधार पर किया जाना चाहिए।

मुहूर्त का चयन करने की विधि

धार्मिक प्रथाओं के अनुसार, हल चलाने का मुहूर्त चुनते समय व्यक्ति को ध्यान में रखने की आवश्यकता होती है। यह कुछ कदमों में किया जा सकता है:

  1. पंचांग की जाँच: ज्योतिषीय पंचांग का परीक्षण करें ताकि सही तिथि, समय, और नक्षत्र का चयन किया जा सके।
  2. ज्योतिषीय सलाह: किसानों को ज्योतिषीय सलाहकारों से मिलकर शुभ मुहूर्त की सुझाव मिलते हैं, जो उनके जन्मकुंडली और बुर्ज के आधार पर किए जाते हैं।
  3. पूजा और आराधना: हल चलाने से पहले धार्मिक आराधना और पूजा करना शुभ होता है, जिससे यह विशेष रूप से प्रभावी हो सकता है।

बीज बोने/खेती करने/हल चलाने का मुहूर्त कब है 2023 | बीज उत्पत्ति का शुभ मुहूर्त | kheti karne ka Shubh muhurt kab hai

Secrets Tips

भारत एक कृषि प्रधान देश है। यहां पर धार्मिक मान्यता को सर्वोपरि रखा जाता है। ऐसे खेती कार्य को शुरू किए जाने के पूर्व किसानों द्वारा शुभ मुहूर्त देखे जाने की परंपरा है। मुहूर्त देखकर ही किसान खेतों की जुताई तथा बीजों की बुवाई करता है। यह एक काल्पनिक मिथ होने के साथ ही किसानों की आस्था से जुड़ा विषय है। आज हम पोस्ट के जरिए बीज बोने खेती करने, खेत में हल चलाने का शुभ मुहूर्त कब है? गेहूं बोने का शुभ मुहूर्त, धान बोने का शुभ मुहूर्त कब है?, इसके बारे में संक्षिप्त रूप में जानेंगे। यदि आप भी समृद्ध किसान बनना चाहते हैं तो, आप शुभ मुहूर्त में खेती करें। जिससे आपका फसल अच्छा उपज दे, और आपको लाभ हो। इसलिए आज हम इन सभी मुहूर्त के बारे में जानेंगे।

kheti karne ka Shubh muhurt kab hai | खेती करने का शुभ मुहूर्त मई 2023

दिनांकवारकार्य
2 मई 2023मंगलवारहल चलाना
11 मई 2023गुरुवारबीज बोना
16 मई 2023मंगलवारहल चलाना
29 मई 2023सोमवारहल चलाना / बीज बोना
30 मई 2023मंगलवारहल चलाना

खेती करने का शुभ मुहूर्त जून 2023

दिनांकवारकार्य
13 जून 2023मंगलवारहल चलाना
20 जून 2023मंगलवारहल चलाना
30 जून 2023शुक्रवारहल चलाना
हल चलाने का मुहूर्त
हल चलाने का मुहूर्त

खेती करने का शुभ मुहूर्त कैसे देखें?

दोस्तों यदि आप स्वयं खेती करने के शुभ मुहूर्त के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। तो हम यहां पोस्ट के जरिए आपको खेती करने के शुभ मुहूर्त के बारे में बतलाएंगे जिससे आप स्वयं हल चलाने का मुहूर्त और बीज बोने का शुभ मुहूर्त के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं। अपने लिए शुभ मुहूर्त का चयन कर सकते हैं। इसके लिए आपको हिंदू पंचाग और पंड़ितों से पूछताछ करने की कोई जरूरत नहीं है। और यहां पर मैं कुछ नक्षत्र, लग्न और वार के बारे में बताने जा रहा हूं। जिससे आप शुभ मुहूर्त के बारे में जान सके।

नक्षत्र – हल चलाने और बीज बोने, खेती करने के लिए मूल, विशाखां, मघा, स्वाति, पुनर्वसु, श्रवण, धनिष्ठा, शतभिषा, तीनों उत्तरा, रोहिणी, मृगशिरा, रेवती, चित्रा, अनुराधा, हस्त, अश्वनी, पुष्य और अभिजीत नक्षत्र शुभ होते हैं।

लग्न – लग्न को देखने के लिए गोचर को देखना होगा। गोचर कुंडली में 5, 11, 1, 4, 7, 10, भाव में शुभ ग्रह बैठे हो तो यह शुभ होता है। लेकिन लग्न में 5, 11, 1, 4, 7, 10 राशिया नहीं होना चाहिए।

लग्न कैसे देखें?

दोस्तों खेती के लिए यह लग्न को देखने के लिए आप अपनी जन्म राशि या चंद्र राशि को कुंडली के प्रथम भाव (लग्न) में रखना होगा। जिसके बाद वहां पर गोचर के अनुसार सभी ग्रहों को स्थापित करें। अब देखें कि कुंडली के केंद्र भाव (1, 4, 7, 10) पंचम भाव और एकादश भाव में से शुभ ग्रह बैठे हो तो शुभ है।

वार – खेती करने के लिए सोमवार, बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार शुभ होते हैं।

वर्जित – रिक्ता तिथि (4, 9, 14) में खेती नहीं करना चाहिए।

खेत में हल चलाने का शुभ मुहूर्त कब है?

जब किसान भाई खेतों में हल चलाने के लिए पहुंचता है। ऐसे में उन्हें कुछ नियमों और बातों का ध्यान देना अति आवश्यक है। जैसे – समय कौन सा दिन है, नक्षत्र कौन सा है, और तिथि कौन सा है। यह सब भी ध्यान में रखना चाहिए। क्योंकि कहा जाता है, जो कार्य शुभ मुहूर्त में किया जाए, वही शुभ फलदाई होता है। हमने आपके लिए यहां पर पंचांग के द्वारा कुछ खेत में हल चलाने का मुहूर्त को उपलब्ध कराया है। जिससे आप अपना खेत में हल चलाने का शुभ कार्य बहुत सरलता से कर सकते हैं।

बीज बोने का शुभ मुहूर्त

दोस्तों यदि हम बात करें, बीज बोने का शुभ मुहूर्त के बारे में, तो हमारे पंचांग में इसके लिए भी शुभ मुहूर्त है। यदि शुभ मुहूर्त देखकर खेत में बीज बोया जाए, तो वह फसल बहुत अच्छी होने के साथ ही भरपूर उत्पदान देने वाली होती है। उस फसल की गुणवत्ता भी काफी हद तक बेहतर होता है। और उसके साथ ही उस फसल के साथ कोई भी आपदा का घटित होने की संभावना भी कम हो जाती है। जिसके कारण किसान को अच्छा मुनाफा प्राप्त होता है।

हमने यहां पर पंचांग से कुछ मुहूर्त निकाला है। जोकि खेती करने के लिए सर्वोत्तम हो सकता है। इस मुहूर्त में आप अपना खेत में हल चलाना या बीज बोने का कार्य कर सकते हैं। जो आपके लिए श्रेष्ठ होगा। तो चलिए हम इस मुहूर्त को जान लेते हैं, कि वह कौन कौन से ऐसे मुहूर्त हैं। जिसमें हम अपना खेती का कार्य कर सकते हैं।

समाप्ति

इस प्रक्रिया के अंत में, हम देख सकते हैं कि हल चलाने का मुहूर्त एक अद्वितीय और सांस्कृतिक अनुष्ठान है जो न केवल कृषि को समृद्धि प्रदान करता है बल्कि इसमें ज्योतिषीय, धार्मिक, और सामाजिक महत्व भी होता है। व्यक्ति इसे अपनी सांस्कृतिक आधार के रूप में गर्व से स्वीकार करता है, और इस अनुष्ठान से उन्हें अपने क्षेत्र में सफलता की कामना होती है।

careermotto

A self-motivated and hard-working individual, I am currently engaged in the field of digital marketing to pursue my passion of writing and strategising. I have been awarded an MSc in Marketing and Strategy with Distinction by the University of Warwick with a special focus in Mobile Marketing. On the other hand, I have earned my undergraduate degrees in Liberal Education and Business Administration from FLAME University with a specialisation in Marketing and Psychology.

Related Articles

Back to top button