Education

LLB Karne Ke Fayde

LLB Karne Ke Fayde: एलएलबी क्या है? एलएलबी करने के फायदे, एलएलबी कैसे करें? एडमिशन प्रोसेस, कोर्स फीस, LLB के बाद जॉब, बेस्ट कॉलेज और कैरियर स्कोप आदि के बारे में डिटेल में जानकारी।

LLB kya hai?

एलएलबी तीन बर्षीय और 5 बर्षीय बैचलर डिग्री प्रोग्राम होता है। 3 बर्ष की एलएलबी को किसी भी स्ट्रीम के ग्रेजुएशन कर चुके कैंडिडेट कर सकते हैं और 5 बर्षीय BA LLB करने के लिए स्टूडेंट्स को किसी भी स्ट्रीम से 12वीं होना चाहिए। आप अपनी योग्यता के अनुसार इन दोंनो LLB कोर्स में से किसी भी कोर्स का चुनाव कर सकते हैं।

LLB Karne Ke Fayde

एलएलबी करने के बाद में आपके पास सिर्फ वकील बनने का ही विकल्प नहीं होता है, बल्कि आप देश-विदेश की मल्टीनेशनल कंपनियों में भी बेहतरीन नौकरी कर सकते हैं। अनुभव के बाद आप सरकारी विभागों और निजी कंपनियों में लीगल कंसल्टेंट का काम भी कर सकते हैं।

Secrets Tips

राज्य और केंद्र सरकारों में अटॉर्नी जनरल के पद पर भी कार्य कर सकते हैं। एलएलबी के बाद आप एलएलएम व पीएचडी करके आप एजुकेशन और रिसर्च के फील्ड में जा सकते हैं।

तमाम देसी और विदेशी और मल्टीनेशनल कंपनियां तेजी से आगे बढ रही हैं। ये कंपनियां बड़े ही अट्रैक्टिव पैकेज पर प्रतिभाशाली लॉ ग्रेजुएट्स को नियुक्त करती हैं। आजकल तो डेवलपर्स और बिल्डर्स को भी वकीलों व भूमि से जुडे कानूनी मामलों के जानकारों की जरूरत होने लगी है।

एलएलबी के बाद न्यायिक सेवा परीक्षा में चयनित होकर सिविल जज भी बन सकते हैं। आप परीक्षा पास करके प्राप्त कर सकते हैं। केंद्रीय स्तर पर एलएलबी के बाद आप लॉ ऑफिसर, डिप्टी लीगल एडवाइजर, लीगल एडवाइजर आदि के पद पर कार्य कर सकते हैं।

राज्य पुलिस, राजस्व विभाग एवं न्यायिक विभागों में भी वकीलों की नियुक्ति की जाती है। विभिन्न स्तर के अधीनस्थ न्यायालयों में न्यायिक दंडाधिकारी, जिला एवं सत्र न्यायाधीश, लोक अभियोजक, सब मजिस्ट्रेट, एडवोकेट जनरल, नोटरी एवं शपथ पत्र आयुक्त जैसे पदों पर भी आप आसीन हो सकते हैं।

Secrets Tips

कॉरपोरेट घरानों और विभिन्न कंपनियों से जुडे वकीलों का वेतन काफी आकर्षक होता है, जंहा पर लॉ ग्रेजुएटस के लिए जॉब के अच्छे मौके होते हैं।

कई कंपनियों में कंपनी सेक्रेटरी के रूप में और लॉ रिपोर्ट लिखने के लिए राइटर के तौर पर भी आप जॉब पा सकते हैं।

लॉ कोर्स करने के बाद क्रिमिनल लॉ, सिविल लॉ, कॉरपोरेट लॉ, इन्कम टैक्स लॉ, प्रॉपर्टी लॉ, इंटरनेशनल लॉ, लेबर लॉ, फैमिली लॉ, प्रेस लॉ, कॉन्स्टीटयूशनल लॉ, एक्साइज लॉ, एडमिनिस्ट्रेशन लॉ, ट्रेड मार्क, सेल ऑफ गुड्स लॉ, कॉपीराइट लॉ, पेटेंट लॉ आदि के क्षेत्र में कैरियर बनाया जा सकता है। चलिये डिटेल में LLB karne ke fayde के बारे में जानते हैं।

एलएलबी की डिग्री में कानून की पढ़ाई होती है, जिसके बाद कैंडिडेट विभिन्न क्षेत्रों में वकील व अन्य लॉ विशेषज्ञ के तौर पर कार्य कर सकते हैं। ये तो हम सभी को मालूम है कि वकील की हर इंसान को आज के समय मे कभी न कभी जरूरत तो पड़ती ही है। इसके अलावा अनेक फील्ड में लॉ के ग्रेजुएटस के लिए जॉब के अवसर ही अवसर होते हैं। जिस वजह से कफ युवाओं का इस फील्ड की ओर आकर्षण रहता है।

Advocate के तौर पर वकालत कर सकते हैं।

काफी लोग LLB की डिग्री प्राप्त करने के बाद एडवोकेट (वकील) के तौर पर कोर्ट या कचहरी में वकालत करने का ऑप्शन चुनते हैं, जोकीं लॉ के फील्ड का बेहतरीन कैरियर ऑप्शन है। LLB करने का एक सबसे बड़ा फायदा यही है कि इसके बाद आपको जॉब के लिए किसी दूसरे के आगे हांथ फैलाने की जरूरत नही है। आप वकील के तौर पर डिस्ट्रिक्ट, हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में वकालत कर सकते हैं।

हालांकि शुरुआत के समय में आप निराश हो सकते हैं, क्योंकि अभी आप इस फील्ड में नए हैं, जिस वजह से आपके पास क्लाइंट बहुत कम होंगे। लेकिन जब आपको 1 से 2 साल इस फील्ड में हो जाएंगे, तो आपको काफी लोग जानने लगेंगे। जिस वजह से आपके पास क्लाइंट्स की कमी नही होगी। इसलिए अगर आप कोर्ट में वकालत करना चाहते हैं तो आपको शुरुआत में धैर्य से काम लेना होगा।

वकालत करने के लिए कैंडिडेट को LLB की डिग्री लेने के बाद बार काउंसिल ऑफ इंडिया में रजिस्ट्रेशन करवाना होगा, इसके साथ ही आपको किसी अनुभवी वकील के पास रहकर इंटर्नशिप करनी होगी। जिसके बाद आप कोर्ट में वकील के तौर प्रैक्टिस करनी होगी।

Corporate Lawyer बन सकते हैं।

लीगल सेक्टर में रूचि रखने वाले स्टूडेंट्स एलएलबी की डिग्री हासिल करने के बाद कॉरपोरेट लॉ में अपना सुनहरा करियर बना सकते हैं। नौकरी और कमाई के अच्छे अवसर होने की वजह से आप भी इस क्षेत्र में अपना अच्छा मुकाम हासिल कर सकते हैं। पिछले एक दशक से कॉरपोरेट लॉयर की खूब डिमांड बढ़ी है।

कॉरपोरेट्स लॉयर, विभिन्न कंपनियों को उनके कानूनी अधिकारों और सीमाओं के बारे में सलाह देते हैं और उनके कानूनी मसलों को सुलझाने का काम करते हैं। करोड़ों के मामलों के चलते अब पूरा गेम ही बदल गया है और कॉरपोरेट लॉ एक आकर्षक करियर बन गया है।

कॉरपोरेट लॉयर अपने क्लाइंट्स को कानूनी तौर तरीके से कारोबार करने में मदद करता है। जिससे उनके व्यापार के संचालन में कोई भी कानूनी अड़चन न आये। कारपोरेट लायर की जिम्मेदारी नई फर्म शुरू करने के लिए शुरुआती दस्तावेज तैयार करने से लेकर कॉरपोरेट रीऑर्गनाइजेशन करने तक रहती है।

आज के समय मे तमाम बड़ी- बड़ी कंपनियों लांच हो रही है और इसके साथ ही तमाम कंपनियां चल रही हैं, इन कंपनियों में कारपोरेट लायर या लीगल एडवाइजर की खूब मांग रहती है। एक अनुमान के मुताबिक भारतीय फर्म (कंपनियां) पिछले साल से दोगुनी संख्या में कारपोरेट वकीलों को नौकरी पर रखें रही हैं। ये मांग न केवल सीनियर पोजीशन पर बढ़ी है, बल्कि एंट्री लेवल पर भी कारपोरेट लायर की।डिमांड बढ़ी है।

विदेशी कानूनी फर्मों या कंपनियों के भारत में आने से सैलरी का ग्राफ भी काफी ऊपर बढ़ा है। कैंपस रिक्रूटमेंट में ऑफर की जाने वाली सैलरी भी 15 से 20 फीसदी बढ़ी है। जिन कारपोरेट लायर के पास 3 से 8 साल का अनुभव है, उनके मामलों में तो सैलरी की बढ़ोत्तरी 35 से 100 फीसदी के बीच हुई है। लीगल सेल के प्रमुखों की सालाना औसत सैलरी 1.8-2.3 करोड़ रुपये तक पहुंच गई है जो पिछले साल की तुलना में काफी बढ़ी है।

ये भी पढ़ें: जज कैसे बनें?

Journalist बन सकते हैं?

एलएलबी की डिग्री हासिल करने के बाद आप जॉर्नलिस्ट के तौर पर विभिन्न टीवी चैनल और समाचारपत्र में जॉब कर सकते हैं, क्योंकि लॉ के स्टूडेंट्स को कानून की अच्छी समझ होती है। इसलिए तमाम मीडिया हाउस एलएलबी के डिग्री होल्डर को रिपोर्टर के तौर पर नियुक्त करते हैं। आपको बता दें कि जॉर्नलिज्म बहुत ही ग्रोइंग फील्ड है और LLB के स्टूडेंट्स के लिए इसमे अच्छे कैरियर के अवसर होते हैं।

Legal Adviser बन सकते हैं।

एलएलबी करने के बाद आप किसी सरकारी कंपनी यह फिर बड़े-बड़े इंडस्ट्री में लीगल एडवाइजर के तौर पर कार्य कर सकते हैं।

हर बड़ी कंपनी को अपने यंहा पर लीगल एडवाइजर की जरूरत होती है। ये लीगल एडवाइजर इन कंपनियों और इंडस्ट्रीज को लीगल एडवाइस देते हैं। लीगल एडवाइजर कंपनियों को उनके कानूनी मामलों में सलाह देते है ताकि वह परिस्थितियों के अनुसार सही निर्णय ले सकें।

आजकल तो NGOs(नानू गवर्नमेंट ऑर्गेनाइजेशन) जैसी संस्थाओं में भी लीगल एडवाइजर नियुक्ति की जाती है।

लीगल एडवाइजर के तौर पर आप अपनी खुद की एक लीगल कंसल्टेंसी सर्विस शुरू कर सकते हैं। इसमें भी आपको आपको अपने क्लाइंटस को कानूनी सलाह प्रदान करना होता है।

Judiciary में कैरियर बना सकते हैं।

एलएलबी की पढ़ाई करने के बाद में आप न्यायालय में जज और मजिस्ट्रेट के तौर पर कार्य कर सकते हैं। इसके लिए आपको जज और मजिस्ट्रेट के लिए होने वाली परीक्षा को पास करना होता है।

इस प्रवेश परीक्षा में सफल होने के बाद आप किसी भी न्यायालय में जज और मजिस्ट्रेट के तौर पर जॉब हासिल कर सकते हैं।

न्यायालय में जज, मैजिस्ट्रेट, सब जज और मुंसिफ जैसे इन पदों के लिए पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा परीक्षा आयोजित की जाती है। इन परीक्षाओं को पास करने के बाद आप इन पदों पर नौकरी पा सकते हैं।

Politics में कैरियर बना सकते हैं।

सभी राजनीतिक पार्टियों को कानूनी सलाहकार की जरूरत पड़ती है। एलएलबी डिग्री करने के बाद आप राजनीतिक पार्टियों में विभिन्न पदों पर काम कर सकते हैं।

पॉलिटिक्स में भी आपको लीगल एडवाइजर के तौर पर काम करना होता है। आपको पार्टियों को उनके हित मे कानूनी सलाह देना होता है और पार्टियों के कानूनी मसलों को हल करना होता है। इसके अलावा आप पार्टियों के कानूनी प्रवक्ता के तौर पर भी कार्य कर सकते हैं।

इसमें आपको अच्छे कैरियर के बहुत अच्छे अवसर प्राप्त होते हैं क्योंकि इसमें आपको राजनीतिक पार्टियों के लिए काम करना होता है। जिससे आपकी बड़े-बड़े राजनेताओं के तक पहुंच होती है।

अच्छी पहचान होने पर आप कुछ समय बाद में आप अपनी पार्टी के तरफ से चुनाव भी लड़ सकते हैं और विभिन्न मंत्रालयों में कार्य करने का अवसर पा सकते हैं।

ये भी पढ़ें: हाई कोर्ट में वकील कैसे बनें?

Legal Researcher के तौर पर कार्य कर सकते हैं।

एलएलबी करने के बाद में आप किसी बड़े वकील के साथ और लीगल फर्म में लीगल रिसर्च के तौर पर काम कर सकते। लीगल रिसर्च का काम ये होता है कि वह विभिन्न प्रकार के केसों का गहराई से अध्ययन करते है और उन कि जीतने के रास्तों को ढूंढते है। इसलिए बहुत सारे वकील अपने यंहा पर केस के अध्ययन के लिए लीगल रिसर्च को नौकरी में रखते हैं।

लीगल रिसर्चर बनने के बहुत से फायदे है। इसमें आपकी वकालत की प्रैक्टिस भी होती है और साथ ही आप भिन्न प्रकार के केश भी हैंडल करते हैं। जिससे आपको कानून की और भी अच्छे से समझ हो जाती है।

इसलिए एलएलबी करने वाले बहुत से लोग लीगल रिसर्च के तौर पर 2 से 4 साल तक काम करते हैं ताकि उन्हें इस क्षेत्र की अच्छे से समझ हो सके और बाद में इस क्षेत्र में अपना अच्छा भविष्य बना सकें।

Cyber Law में कैरियर बना सकते हैं।

इंटरनेट पर होने वाले अपराधों से संबंधित कानून को साइबर लॉ या इंटरनेट लॉ कहा जाता हैं। साइबर क्राइम एक ऐसा अपराध है। जो इंटरनेट टेक्नोलॉजी के बढ़ते उपयोग के कारण तेजी से बढ़ रहा है। साइबर लॉ एक्सपर्ट्स अपने क्लाइंट के लिए साइबर क्राइम का केस फाइल करते हैं और उसकी पैरवी करते हैं।

मोबाइल और इंटरनेट व कंप्यूटर व इंटरनेट के बढ़ते उपयोग की वजह से देश में साइबर क्राइम की घटनाएं भी बढ़ रही हैं। यही वजह है कि साइबर क्राइम के क्षेत्र में अवसरों की भरमार है। साइबर लॉ एक्सपर्ट सरकारी विभागों, बैंकिंग सेक्टर, आईबी, बीपीओ, आईटी और शिक्षण संस्थानों में Cyber Lawyer के तौर पर नौकरी पा सकते हैं।

एक वकील के तौर पर काम करने के अलावा आप आईटी फर्म, पुलिस विभाग और विभिन्न बैंकों में साइबर कंसल्टेंट के तौर पर काम कर सकते हैं। इसके अलावा आप लॉ या टेक्नोलॉजी फर्म में रिसर्च असिस्टेंट के तौर पर काम कर सकते हैं, साथ ही आप इनफॉर्मेशन एंड कम्युनिकेशन मिनिस्ट्री में सलाहकार के तौर पर भी कार्य करने का अवसर सकते हैं।कॉर्पोरेट हाउसेज़ को तो साइबर सलाहकारों (Cyber Advisor) की खूब जरूरत होती है।

साइबर वकील सार्वजनिक और निजी क्षेत्र में कार्य करते हैं। इनका वेतन इनकी योग्यता और वर्क एक्सपीरियंस पर ही निर्भर करता है। जितना अच्छा आपको इस फील्ड का एक्सपीरिएंस है उतना ही अच्छा आप इस फील्ड में पैसा कमा सकते हैं।

एलएलबी की डिग्री लेने के बाद आप चाहें तो किसी भी लॉ फर्म के साथ जुड़ सकते हैं या फिर प्रैक्टिस कर सकते हैं। एक प्रोफेशनल साइबर वकील प्रति वर्ष 6 से 10 लाख रुपये तक कमाता है। वंही फ्रेशर वकील प्रतिमाह 20 से 25 हजार रुपये कमाता हैं। अच्छे साइबर लायर को बड़े-बड़े लॉ फर्म्स हाई पैकेज पर जॉब ऑफर करते हैं।

Teaching के फील्ड में जा सकते हैं?

आप असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर भी लॉ के फील्ड में जॉब कर सकते हैं। इसके लिए कैंडिडेट को LLB के बाद LLM व यूजीसी नेट व पीएचडी क्वालीफाई करना होगा। उसके बाद उम्मीदवार टीचिंग के फील्ड में बेहतरीन कैरियर बना सकते हैं। आज के समय मे अनेक लॉ कॉलेज खुल गए हैं, जंहा पर आप असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर जॉब कर सकते हैं।

Government Service कर सकते हैं।

एलएलबी करने के बाद अगर आप सरकारी जॉब करना चाहते हैं तो आपको इनके लिए परीक्षा पास करनी होगी। जैसेकि अगर आपको बैंक के लीगल डिपार्टमेंट में जॉब करना है तो आपको बैंकिंग से संबंधित एग्जाम देना होगा। इस तरह अनेक एग्जाम के माध्यम से आप LLB के बाद सरकारी नौकरी पा सकते हैं।

Legal Analyst बन सकते हैं।

बड़ी-बड़ी कंपनियां और कोऑपरेटिव फर्म्स लीगल एनालिस्ट के पद पर एलएलबी के डिग्री धारक को नौकरी पर रखती है। इसमें आपको कंपनी की कार्य प्रणाली को देखनी होती है और कंपनी को कानूनी दायरे में रहते हुए कैसे कार्य करना चाहिए, उसके बारे में सलाह देते हैं।

लीगल एनालिस्ट बनने के लिए उम्मीदवार को बार एसोसिएशन द्वारा लाइसेंस लेने की जरूरत होती है । ये लाइसेंस आप बार एसोसिएशन की परीक्षा को देकर प्राप्त कर सकते हैं।

अब आपको LLB Karne ke Fayde के बारे में मालूम हो गया है, चलिये अब जान लेते हैं कि LLB कोर्स कैसे करें और इसकी फीस कितनी होती है।

LLB kaise kare

अगर आप BA एलएलबी 5 साल का कोर्स करना चाहते हैं तो आप 12th किसी भी स्ट्रीम से पास करने के बाद कर सकते हैं। इसके अलावा अगर आप LLB तीन साल का कोर्स करना चाहते हैं तो आप ग्रेजुएशन के बाद इस कोर्स को कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: कारपोरेट लॉ में कैरियर कैसे बनाये?

LLB में एडमिशन कैसे मिलेगा?

अगर आप इंडिया के टॉप लॉ कॉलेज से LLB करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको प्रवेश परीक्षा पास करना होगा, जिसके लिए आप नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (NLU), कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (Common Law Admission Test – CLAT) ,National Law University Delhi) में एडमिशन के लिए ऑल इंडिया लॉ एंट्रेंस टेस्ट – All India Law Entrance Test (AILET) आयोजित किया जाता है।

LLB Course Fees

इस कोर्स की औसत फीस 20 हजार से 50 हजार प्रतिबर्ष तक होती है। फिलहाल प्राइवेट कॉलेजों में सरकारी कॉलेजों की अपेक्षा काफी ज्यादा फीस होती है।

LLB College in India

नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी
यूनिवर्सिटी ऑफ बेंगलुरु
बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी
दिल्ली यूनिवर्सिटी
गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी
इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी, दिल्ली
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़
नलसर यूनिवर्सिटी, हैदराबाद
नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, कोच्चि
डॉ राममनोहर लोहिया नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, लखनऊ
क्राइस्ट यूनिवर्सिटी
नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जोधपुर
नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, गुजरात
जामिया मिलिया इस्लामिया, न्यू दिल्ली
बंगलोर यूनिवर्सिटी
ओस्मानिया यूनिवर्सिटी, हैदराबाद
कलकत्ता यूनिवर्सिटी
इलाहाबाद यूनिवर्सिटी
चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी
सिम्बोसिस यूनिवर्सिटी, पुणे
लखनऊ यूनिवर्सिटी
MJP रुहेलखंड यूनिवर्सिटी, बरेली
लखनऊ यूनिवर्सिटी

उम्मीद है LLB Karne ke fayde ये लेख आपको पसंद आया होगा, क्योंकि इस लेख में मैंने एलएलबी के फायदे के साथ ही, इससे जुड़ी सारी जानकारी दी है, जोकीं आपके लिए काफी यूजफुल साबित होगी।

careermotto

A self-motivated and hard-working individual, I am currently engaged in the field of digital marketing to pursue my passion of writing and strategising. I have been awarded an MSc in Marketing and Strategy with Distinction by the University of Warwick with a special focus in Mobile Marketing. On the other hand, I have earned my undergraduate degrees in Liberal Education and Business Administration from FLAME University with a specialisation in Marketing and Psychology.

Related Articles

Back to top button