Education

Primary Teacher kaise bane

Primary Teacher kaise bane: अगर आप प्राइमरी टीचर बनना चाहते हैं तो यंहा मिलेगी सारी जानकारी।

शिक्षक की पोस्ट सम्मान जनक पोस्ट मानी जाती है, क्योंकि बच्चों का गुरु बनना भी कोई आसान काम नहीं है। कुछ लोगों का अध्यापक बनने का सपना होता है ताकि वो अपना ज्ञान दूसरों के बीच साझा कर सके और खुद का भी ज्ञान बढ़ा सके।

आप टीचर कई चरणों में बन सकते हैं। कुछ लोग प्राइमरी स्कूल में तो कुछ लोग हायर सेकेंडरी स्कूल में टीचर बनते हैं। Primary Teacher kaise bane इसके बारे में मैंने इस लेख में डिटेल में बताया है। जैसेकि प्राइमरी टीचर बनने के लिए योग्यता, उम्र सीमा, एग्जाम, सेलेक्शन प्रोसेस, सैलरी आदि की डिटेल में जानकारी।

Primary Teacher kaise bane

प्राइमरी टीचर बनने के लिए उम्मीदवार के पास कुछ आवश्यक योग्यता का होना भी बहुत ही जरूरी होता है। जिसके बाद ही आप प्राइमरी टीचर बनकर 1 से 5 कक्षा तक के स्टूडेंट्स को पढा सकते हैं।

Secrets Tips

वंही TGT के माध्यम से आप 6 से 10 कक्षा के और PGT के माध्यम से 11 से 12 कक्षा तक के स्टूडेंट्स को पढा सकते हैं।

प्राइमरी टीचर बनने के लिए सबसे पहले आपको ग्रेजुएशन पूरा करना होगा। फिर इसके बाद बीएड करना बहुत जरूरी होता है। ये कोर्स 2 साल का होता है और इसको ग्रेजुएशन के बाद ही किया जा सकता है।

सरकारी प्राइमरी स्कूल में टीचर बनने के लिए आपको बीएड करने के बाद में टेट (TET) एग्जाम पास करना अनिवार्य होता है। टेट (TET) परीक्षा को पास किये बिना आप प्राइमरी स्कूल में शिक्षक नहीं बन सकेंगे।

जब आपका बीएड और TET कंप्लीट हो जाता है तो उसके बाद जब भी राज्य सरकार द्वारा शिक्षक भर्ती निकले आप उसमे प्राइमरी टीचर के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस परीक्षा में अप्लाई करने के बाद में आपको लिखित परीक्षा देनी होगी। फिर इस परीक्षा के आधार पर सेलेक्शन होता है।

Secrets Tips

Primary Teacher Salary

सरकारी प्राइमरी टीचर को पे स्केल 9300 से 35400 रुपये तक का पैकेज मिलता है। इस सैलरी के साथ ही कई भत्ते भी टीचर को मिलते हैं।

ये तो सरकारी स्कूल में Primary Teacher kaise bane इसका प्रोसेस है। चलिये जानते हैं कि प्राइवेट स्कूलों में आप प्राइमरी टीचर कैसे बन सकते हैं।

Private School me Primary Teacher kaise bane

जो ज्यादा हाई फाई और अच्छे प्राइवेट स्कूल होते हैं तो उनमें प्राइमरी टीचर बनने के लिए उम्मीदवार का ग्रेजुएशन के साथ ही बीएड होना जरूरी होता है और साथ ही TET एग्जाम भी पास होना चाहिए।

वंही जो निचले स्तर के प्राइवेट प्राइमरी स्कूल होते हैं तो उनमें आप ग्रेजुएशन के बाद ही प्राइमरी टीचर बन सकते हैं। इनमे बीएड और टेट एग्जाम पास होना जरूरी नही होता है और इस तरह के स्कूलों में प्राइमरी टीचर को सैलरी भी कम मिलती है।

Primary Teacher बनने के लिए बीएड कैसे करें

सबसे पहले उम्मीदवार को किसी भी संकाय से ग्रेजुएशन पूरा करना होगा, फिर इसके बाद बीएड की प्रवेश परीक्षा देनी होगी। सरकार हर साल बीएड कोर्स के लिए सयुंक्त प्रवेश परीक्षा का आयोजन करती है। इसमें आपको अप्लाई करना होगा, इसके बाद आपको इसका एंट्रेंस एग्जाम देना होगा। फिर आपकी रैंक के आधार पर काउंसिलिंग के जरिये एडमिशन होगा।

B.ed Course Fees

अगर आपको गवर्नमेंट कॉलेज में बीएड कोर्स में एडमिशन मिल जाता है तो वँहा पर आपको 12 से 15 हजार के आसपास फीस देनी पड़ती है। वंही अगर आप प्राइवेट कॉलेज से बीएड करते हैं तो वहाँ पर 50 हजार के आसपास फीस होती है।

आप चाहें प्राइवेट कॉलेज से बीएड करें या गवर्नमेंट कॉलेज से, लेकिन आपको बीएड प्रवेश परीक्षा जरूर देनी होगी। इसमे प्राइवेट स्कूलों में भी डायरेक्ट एडमिशन नही मिलता है।

ये भी पढ़ें: असिस्टेंट प्रोफेसर कैसे बनें?

TET Exam kya hai

चूंकि प्राइमरी टीचर बनने के लिए बीएड की डिग्री के साथ ही आपको TET एग्जाम भी पास करना होता है, चलिये जानते हैं कि TET एग्जाम क्या होता हैं।

सरकारी टीचर बनने के लिए टीईटी परीक्षा प्रमुख माध्यम होती हैं। इसके माध्यम से केंद्र एवं राज्य के सरकारी स्कूलों के शिक्षक के पदों पर भर्तियां की जाती हैं।

केंद्रीय स्तर पर सीबीएसई, CBSE के द्वारा केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा CTET का आयोजन करती है। वहीं सभी राज्य की अपनी अलग- अलग टीईटी परीक्षाएं भी होती हैं। जिनमें यूपीटीईटी (UPTET), बिहार एसटीईटी (Bihar STET), एमपीटीईटी (MPTET), समेत कई अन्य परीक्षाएं भी शामिल होती हैं। आप जिस भी राज्य के हैं उस राज्य से संबंधित TET एग्जाम दे सकते हैं या फिर केंद्रीय स्तर पर CTET एग्जाम दे सकते हैं। आप TET व CTET दोनो एग्जाम को भी दे सकते हैं।

TET के लिए योग्यता

उम्मीदवार के पास बीएड की डिग्री होनी चाहिए अथवा अन्य बीएड के समकक्ष शिक्षक प्रशिक्षण प्रोग्राम की डिग्री होनी चाहिए और उम्मीदवार की उम्र कम से कम 18 बर्ष होनी चाहिए।

TET Certificate Ki Validity

हर साल लाखों उम्मीदवार TET परीक्षाओं में शामिल होते हैं। इसलिए इस परीक्षा को लेकर उम्मीदवारों के मन में कई तरह के संशय भी होते हैं। उनमें से एक संशय यह भी है कि टीईटी सर्टिफिकेट की वैलिडिटी कितने साल होती है।

टीईटी (TET) सर्टिफिकेट की वैधता आजीवन होती है। पहले इसकी वैधता 7 साल की होती थी। लेकिन नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन (NCTE) ने इसे बढ़ाकर जीवन भर के लिए कर दिया है। जिसके बाद में सीटीईटी समेत सभी टीईटी परीक्षा को पास करने वाले उम्मीदवार TET सर्टिफिकेट के माध्यम से आजीवन शिक्षक पदों के लिए आवेदन करने योग्य हैं।

TGT Kya Hai

टीजीटी को ट्रेन्ड ग्रेजुएट टीचर कहते हैं। टीजीटी पास टीचर मिड्ल स्कूल के बच्चों को यानि छठी क्लास से लेकर दसवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों को पढ़ाते हैं।

TGT के लिए ग्रेजुएशन के साथ ही बीएड की डिग्री अनिवार्य होती है।

7वें पे कमीशन के अनुसार ट्रेन्ड ग्रेजुएट टीचर की सैलरी 9,300 से 34,800 प्लस 4600 ग्रेड पे मिलता है।

PGT Kya hai

पीजीटी को पोस्ट ग्रेजुएट टीचर कहते हैं। ये टीचर सेकेंडरी और सीनियर सेकेंडरी के स्टूडेंट्स को पढ़ाने के लिए योग्य होते हैं। पोस्ट ग्रेजुएट टीचर बनने के लिए कैंडिडेट का पोस्ट ग्रेजुएट और साथ ही बीएड व CTET होना भी जरुरी है।

सैलरी की बात की जाए तो 7वें पे कमीशन के बाद पोस्ट ग्रेजुएट टीचर की सैलरी 9,300 से 34,800 रूपए मासिक प्लस 4800 ग्रेड पे मिलता है।

उम्मीद है Primary Teacher kaise bane ये लेख आपको पसंद आया होगा, क्योंकि यंहा पर मैंने टीचर बनने के पूरे प्रोसेस के बारे में बताया है।

careermotto

A self-motivated and hard-working individual, I am currently engaged in the field of digital marketing to pursue my passion of writing and strategising. I have been awarded an MSc in Marketing and Strategy with Distinction by the University of Warwick with a special focus in Mobile Marketing. On the other hand, I have earned my undergraduate degrees in Liberal Education and Business Administration from FLAME University with a specialisation in Marketing and Psychology.

Related Articles

Back to top button